78 मैच बाद बना पाए थे सचिन अपनी पहली वनडे सेंचुरी, फर्राटा नहीं थी तेंडुलकर की गाड़ी

नई दिल्ली: बीती रात अफगानिस्तान के खिलाफ विराट कोहली ने अपनी 71वीं इंटरनेशनल सेंचुरी पूरी की। अब वह पोंटिंग के बराबर पहुंच चुके हैं, लेकिन सबसे आगे तो सचिन तेंडुलकर ही हैं। क्रिकेट के भगवान ने 100 इंटरनेशनल शतक मारे हैं, जिनमें 49 तो वनडे इंटरनेशनल में आए हैं। तब किसी ने नहीं सोचा था कि 1989 में अपने करियर की शुरुआत करने वाला दाएं हाथ का यह बल्लेबाज एक दिन महान कहलाएगा। यहां तक कि अपने पहले एकदिवसीय शतक के लिए भी सचिन को 78 मैच का इंतजार करना पड़ा था।

9 सितंबर, 1994 यानी 28 साल पहले आज ही के दिन सचिन तेंडुलकर ने अपना पहला वनडे इंटरनेशनल शतक लगाया था। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रीलंका में खेले गए सिंगर कप मुकाबले में सचिन ने 110 रनों की पारी खेली थी। कोलंबो में खेले गए उस मुकाबले में भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी थी। मनोज प्रभाकर और सचिन तेंदुलकर ओपनिंग करने आए। प्रभाकर तो 20 रन बनाकर निपट गए, लेकिन 77 मैच खेल चुके सचिन 78वें मुकाबले को यादगार बनाने उतरे थे।

एक तरफ भारत के विकेट गिरते जा रहे थे उधर मुंबई का औसत कद-काठी वाला यह बल्लेबाज क्रीज पर डटा रहा। सचिन की इस 110 रन की पारी के बूते ही भारत ने निर्धारित 50 ओवर में 246 रन बनाए थे। बाद में 247 रन के लक्ष्य के जवाब में ऑस्ट्रेलियाई टीम 215 रन पर ही ऑलआउट हो गई थी। कंगारू टीम से मार्क वॉ ने सर्वाधिक 61 रन बनाए। सचिन तेंडुलकर को शानदार शतक लगाने पर मैन ऑफ द मैच दिया गया था। बाद में सचिन वनडे इंटरनेशनल में दोहरा शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज भी बने। सचिन ने वनडे करियर में कुल 463 मैच खेले और 18426 रन बनाए। यह एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में किसी भी बल्लेबाज द्वारा बनाए गए सर्वाधिक रन हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.