कोहली का शतक और भुवी का पंच… माफ करना, ये उपलब्धियां इस एशिया कप में किसी काम की नहीं!

नई दिल्ली: अफगानिस्तान के खिलाफ विराट कोहली ने धुआंधार शतक जड़ा। दुनिया उनके सजदे में झुक रही है। भुवनेश्वर कुमार ने कातिलाना गेंदबाजी की। इक्का-दुक्का रन देते हुए पांच विकेट झटक लिए। बड़ी जीत दर्ज की। बावजूद इसके ये उपलब्धियां भारत को खुश क्यों नहीं करती। क्या वाकई ये खुशी की बात है। भारतीय टीम ने जो अपना लेवल सेट किया है। कम से कम उसे तो एशिया कप के सुपर-4 से बाहर होना शोभा नहीं देता। दो बार की डिफेंडिंग चैंपियन का ये हाल होगा, किसी ने नहीं सोचा था।

भारतीय टीम में सेलिब्रिटी प्लेयर्स
वैसे भी लगता ही नहीं कि टीम में खिलाड़ी खेलते हैं। सारे सेलिब्रिटी हैं। जितना मैदान के भीतर रहकर कमाते हैं, उससे ज्यादा एडवरटाइजमेंट और बतौर सोशल मीडिया इन्फूलेंसर कमा लेते हैं। आईपीएल से भी करोड़ो मिलता है। दरअसल, दुनिया की सबसे बड़ी टी-20 लीग भारत में होती है। दुनियाभर के सारे धुरंधर आईपीएल में खेलते है। देश के कोने-कोने में छिपी प्रतिभा निखरकर सामने आती है। कहा जाता है कि आईपीएल से भारतीय क्रिकेट अलग लेवल पर जा चुका है। मगर चिराग चले अंधेरा देखिए कि खुद टीम इंडिया के पास वो 11 दमदार खिलाड़ी नजर नहीं आते जो हमें टी-20 का वर्ल्डकप दिला पाए।

प्लेइंग इलेवन ही नहीं पता

टूर्नामेंट में अपने चौथे और एलिमिनेटर मैच में भारत ने श्रीलंका के खिलाफ भद्दा खेल दिखाया था। 173/8 का सेफ टोटल भी नहीं बचा पाई। एक गेंद पहले युवाओं से भरी श्रीलंकाई टीम ने भारत के दिग्गजों को पटक दिया था। एकबार फिर लेफ्ट आर्म पेसर ने हमारे सुपरस्टार्स को परेशान किया। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज दिलशान मदुशंका ने विराट कोहली को शून्य पर बोल्ड कर दिया। भारत का पावरप्ले स्कोर 44/2 था, जो श्रीलंका के 56/0 की तुलना में कम था। कभी ऋषभ पंत टीम से बाहर होते हैं। खेलते हैं तो दिनेश कार्तिक को बाहर बैठना पड़ता है, लेकिन ऐसा खेलते हैं कि दोबारा डीके को लाने की डिमांड होने लगती है। अश्विन, चहल, रवि बिश्नोई और अक्षर पटेल तक को ट्राय कर लिया गया, लेकिन ये तय ही नहीं लग रहा कि वर्ल्ड कप की प्लेइंग इलेवन कैसी होगी?

डेथ बॉलिंग डराती है
लगातार मैचों में, भुवनेश्वर कुमार डेथ ओवरों में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं। सुपर फोर मैच में पाकिस्तान के खिलाफ, भुवनेश्वर ने 19वें ओवर में 19 रन देकर आखिरी ओवर में अर्शदीप सिंह को बचाव के लिए सिर्फ सात छोड़े थे। श्रीलंका के खिलाफ, भारत के बीच के ओवरों में 13 रन देकर चार विकेट लेने के बावजूद, भुवनेश्वर ने 19वें ओवर में 14 रन दिए और आखिरी ओवर में अर्शदीप के लिए सात रन छोड़े थे। इतना तो तय है कि जसप्रीत बुमराह और हर्षल पटेल के आने से पेस बॉलिंग अभी से काफी बेहतर होगी, लेकिन ये तय मान लेना कि हार्दिक पंड्या पूरे 4 ओवर करेंगे, सबसे बड़ा रिस्क है। क्या भारत मोहम्मद शमी जैसे असरदार स्पेशलिस्ट पेसर के साथ जाएगा या फिर दीपक चाहर से काम चलाया जाएगा, जो कमबैक में अबतक अप्रभावी ही दिखे हैं।

Naseem Shah: नागिन हुई नसीम शाह की दीवानी, बॉलीवुड एक्ट्रेस का दिल पाक क्रिकेटर पर अटका!Virat Kohli Rohit Sharma: बड़ी शुद्ध हिंदी बोल रहा है मेरे साथ… इंटरव्यू ले रहे थे रोहित और विराट ने पहले ही सवाल पर मार दिया कटRavindra Jadeja Injury: रविंद्र जडेजा T20 वर्ल्ड कप से हुए बाहर, लापरवाही पर बुरी तरह भड़का है BCCI- सूत्र

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.