Virat Kohli did not like Rohit Sharma new batting approach said I will bat in my own style Asia Cup 2022

रोहित शर्मा के कप्तान बनने के बाद टीम इंडिया नई बैटिंग अप्रैच के साथ टी20 क्रिकेट खेल रही है। कप्तान और कोच के सपोर्ट की मदद से अब खिलाड़ी अपना विकेट गंवाने से कतराते नहीं है और शुरुआत से ही बड़े शॉट खेलने की कोशिश करते हैं। विराट कोहली ने भी अपने आप को इस नई अप्रोच में ढालने की कोशिश की मगर वह ऐसा करने में असफल रहे। मगर एशिया कप में कोहली ने अपने पुराने रंग में नजर आए। कोहली ने शुरुआत में कुछ गेंदें सेट होने के लिए ली और इसके बाद रन गति को बढ़ाया जो वो पिछले कई समय से कर रहे हैं। कोहली ने अफगानिस्तान के खिलाफ शतक जड़ने के साथ एशिया कप 2022 में 92 की औसत से कुल 276 रन बनाए। इस दौरान कोहली के बल्ले से दो अर्धशतकीय पारी भी निकली।

इतनी शुद्ध हिंदी बोल रहा है मेरे साथ… विराट कोहली ने किया कप्तान रोहित शर्मा को ट्रोल- Video

अफगानिस्तान के खिलाफ जीत के बाद विराट कोहली की रोहित शर्मा से खास बातचीत हुई। इस चर्चा का वीडियो बीसीसीआई ने खुद अपने अधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है। कोहली वीडियो में कहते दिख रहे हैं कि वह अब अपने पुराने अंदाज में ही बल्लेबाजी करते हुए नजर आएंगे।

IND vs AFG: विराट कोहली को लेकर बदले गौतम गंभीर के सुर, उनके बैटिंग ऑर्डर पर अब किया ये कमेंट

विराट कोहली ने कहा ‘मेरा लक्ष्य हमेशा से ही तीनों फॉर्मेट खेलने का रहा है। मैं हर टूर्नामेंट और सीरीज में यही सोच कर उतरता हूं कि छक्के मारना मेरी बड़ी ताकत नहीं है, मैं ऐसा कर सकता हूं जब परिस्थितियां ऐसी बने। मगर मैं गैप में चौके लगाने में माहिर हूं। अगर मैं चौके भी लगाता हूं तो उससे टीम का उद्देश्य पूरा होता है। मैंने कोच से भी इस बारे में बात की कि मैं गैप ढूंढने की कोशिश करूंगा इसके बजाय ये सोचकर कि टी20 क्रिकेट में अगर स्ट्राइक रेट ऊपर ले जाना है तो हमें छक्के ही मारने पड़ेंगे। तो ये चीज इस टूर्नामेंट के दौरान मैंने अपने सिस्टम से निकाली, इससे मुझे काफी मदद मिली। इससे मैं अपने टेंपलेट में वापस आ सका।’

IND vs AFG: मैच के बाद विराट कोहली हुए इमोशनल, कहा ‘मेरे 60-70 रन को फेलियर कहा जा रहा था, जो…’

उन्होंने आगे कहा ‘इस टीम में मेरा रोल है कि परिस्थितियों के हिसाब से ज़िम्मेदारी भी लूं और जब स्कोरिंग रेट बढ़ाने की डिमांड हो तो मैं वो भी कर सकूं। मेरा यही लक्ष्य था कि अगर मैं इस जोन में आ गया तो मैं अपने स्पेस में रिलेक्स रहूंगा। 10-15 गेंदें खेलने के बाद मैं सेट होता हूं और उसके बाद मैं रन गति को बढ़ा सकता हूं। मैं इससे खुश हूं कि मैं अपने टेंपलेट में वापस आ सका। पिछले कुछ समय से मैं इस टेंपलेट से दूर चला गया था क्योंकि मैं उस चीज को करने के लिए बेकरार था जो मेरा गेम नहीं है। लेकिन मैं वापस उसी जोन में आकर अब खुश हूं।’

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.